ब्रेकिंग न्यूज़

राहुल गांधी ने 15 दिनों की घटनाएं बताकर मोदी सरकार को महंगाई, पेपर लीक इत्यादि संकटों पर घेरा, विपक्षियों ने संविधान के साथ ली शपथ Rahul Gandhi surrounded the Modi government on the crises of inflation, paper leak etc. by telling the incidents of 15 days, the opposition took oath with the Constitution



नई दिल्ली। नवनिर्वाचित सांसदों ने 18वीं लोकसभा के पहले सत्र के पहले दिन शपथ ली। संसद के बाहर विपक्ष के नेताओं ने संविधान बचाने के नारे लगाए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह सहित तमाम कैबिनेट के मंत्रियों के साथ संसद के नवनियुक्त सांसदों ने भी शपथ ग्रहण की। सदन से बाहर निकलने पर मीडिया बातचीत में कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने कहा कि हम संविधान पर हमला नहीं होने देंगे। राहुल गांधी ने एनडीए सरकार के गठन के बाद से 15 दिनों में हुई घटनाओं का जिक्र कर सोशल मीडिया के जरिए मोदी सरकार को आढ़े हाथ लिया। 

सोशल मीडिया मंच एक्स पर राहुल गांधी ने लिखा, एनडीए के पहले 15 दिन। भीषण ट्रेन दुर्घटना, कश्मीर में आतंकवादी हमले, ट्रेनों में यात्रियों की दुर्दशा, नीट घोटाला, नीट-पीजी निरस्त, यूजीसी नेट का पेपर लीक, दूध, दाल, गैस, टोल और महंगे, आग से धधकते जंगल, जल संकट, हीट वेव में इंतजाम न होने से मौतें। राहुल गांधी ने लिखा कि मनोवैज्ञानिक तौर पर बैकफुट पर पीएम नरेंद्र मोदी, बस अपनी सरकार बचाने में व्यस्त हैं। नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार का संविधान पर आक्रमण हमारे लिए स्वीकार्य नहीं है और ये हम किसी हाल में होने नहीं देंगे। इंडी गठबंधन का मजबूत विपक्ष अपना दबाव जारी रखेगा, लोगों की आवाज उठाएगा और प्रधानमंत्री को बिना जवाबदेही बच कर निकलने नहीं देगा।

इससे पहले संसद के सत्र की शुरुआत से पहले सदन में जब पीएम मोदी शपथ लेकर सांसदों का अभिवादन कर रहे थे तो राहुल गांधी भी अपनी सीट पर हाथ में संविधान की किताब लिए हाथ जोड़ते नजर आए। जब अमित शाह सांसद के तौर पर शपथ लेने जा रहे थे और राहुल गांधी की तरफ उनका चेहरा हुआ तो राहुल गांधी अपनी सीट से संविधान की किताब हाथ में लिए उसे लहराते नजर आए। सदन से बाहर मीडिया से राहुल गांधी ने कहा कि पीएम मोदी और अमित शाह संविधान पर हमला कर रहे हैं, यह हमला हम होने नहीं देंगे। यह हमला हमें स्वीकार्य नहीं है। उन्होंने इसके साथ ही दावा किया कि विपक्ष का जो संदेश है वह जनता तक पहुंच रहा है और कोई भी ताकत भारत के संविधान का इसलिए बाल बांका नहीं कर सकती क्योंकि हम इसकी रक्षा करेंगे।

कांग्रेस के कुछ सांसदों ने हाथ में संविधान की प्रति लेकर लोकसभा में संसद सदस्यता की शपथ ली। अंबाला से कांग्रेस सांसद वरुण चौधरी ने हाथ में संविधान लेकर शपथ ली। असम की धुबरी से चुने गए रकीबुल हुसैन, झारखंड की लोहरदगा सीट से कांग्रेस सांसद सुखदेव भगत, वरिष्ठ कांग्रेस नेता कुमारी शैलजा, रोहतक से कांग्रेस सांसद दीपेंद्र हुड्डा सहित कई कांग्रेस सांसदों ने सोमवार को संसद सदस्य के रूप में शपथ ली। 

इंडिया गठबंधन के कई सांसदों ने सोमवार को संसद परिसर में संविधान की प्रति के साथ प्रदर्शन भी किया। प्रदर्शन में कांग्रेस, समाजवादी पार्टी, डीएमके समेत इंडिया गठबंधन के विभिन्न दल शामिल रहे। इस दौरान कांग्रेस संसदीय दल की अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे व अन्य विपक्षी नेताओं ने संविधान की रक्षा हम करेंगे व लोकतंत्र जिंदाबाद के नारे लगाए।

प्रधानमंत्री के उपरांत कांग्रेस सांसद कोडिकुन्निल सुरेश का नाम पुकारा गया। लेकिन वह सदन में मौजूद नहीं थे। सुरेश आठ बार लोकसभा चुनाव जीत चुके हैं। इसी कारण उन्हें प्रोटेम स्पीकर की सहायता के लिए भी नियुक्त किया गया है। प्रोटेम स्पीकर की अनुपस्थिति में सुरेश को नए सांसदों को शपथ दिलानी थी। कांग्रेस का कहना है कि प्रोटेम स्पीकर की नियुक्ति में सुरेश की वरिष्ठता को नजरअंदाज किया गया।

An appeal to the readers -

If you find this information interesting then please share it as much as possible to arouse people's interest in knowing more and support us. Thank you !

#worldhistoryofjune24 #PassportSevaDivas #InternationalDayofWomeninDiplomacy

I Love INDIA & The World !

No comments

Thank you for your valuable feedback